My Oil Painting

Visit My Photos - 9 Pics
My Oil Painting

और भी कुछ रचा है यहाँ

भोर की पहली किरण मन से मनव्योम तक ---- http://bhorkipehlikiran.blogspot.com/

रविवार, 21 मार्च 2010

My Photography

हजार भासा रा मानखा
धरती नै गूंगी नीं मान
आखर बण ग्या रुंखड़ा
इब कैवे मन री बात !!!!!!

4 टिप्‍पणियां:

  1. हजार भासा रा मानखा
    धरती नै गूंगी नीं मान
    आखर बण ग्या रुंखड़ा
    इब कैवे मन री बात !!!!!!


    बहुत खूब .जाने क्या क्या कह डाला इन चंद पंक्तियों में

    उत्तर देंहटाएं
  2. wah rukhdan re howan ne aap kite maan su bakhan keriyo hai ..aaj ri rajsqathani kavita mein aap ri aa kavita jodhpur ri paramra ne pacho tharan mein sksham saabit huti dekhe hai ..kiranji ...aapne moklo dhanyawad ki aap eti sarthak rachna keren mein safal vehgiya ...

    उत्तर देंहटाएं

Click here to comment in hindi